संभवतः आप अपने वज़न को नियंत्रण में रखने के लिए व्यायाम और फ़िट बने रहनेके महत्व से पहले ही अवगत होंगे. लेकिन व्यायाम का महत्व इससे कहीं अधिक है!

शारीरिक गतिविधि और स्वास्थ्य पर U.S. सर्जन जनरल की रिपोर्ट के अनुसार सक्रिय लोगों की तुलना में निष्क्रिय लोगों को हृदय रोग विकसित होने की लगभग दोगुनी संभावना होती है. यह सत्य है, भले ही आपकी कोई ऐसी स्थिति या आदतें नहीं हों जिनसे आपको हृदयरोग होने का खतरा बढ़ जाता है

व्यायाम से न केवल हृदय और मांसपेशियों की फ़िटनेस बेहतर बनती है, बल्कि इससे रक्त से संबंधित जोखिम कारकों जैसे कोलेस्ट्रॉल और BP के स्तर कम होते हैं. साथ ही, व्यायाम का सकारात्मक मनोदशा बनाने का पहलू भी है!

स्वस्थ व्यक्तियों के लिए व्यायाम का महत्व:

भले ही आपको स्वास्थ्यसंबंधी कोई भी जोखिम या जीवनशैलीसंबंधी कोई बीमारी न हो, व्यायाम नीचे दी गई बीमारियां विकसित होने का जोखिम कम करके मदद करता है

  • प्रकार 2 डायबिटीज़
  • रक्तचाप
  • CHD (एथेरोस्क्लेरोटिक हृदय रोग)
  • कैंसर के कुछ स्वरूप (ब्रेस्ट और कोलोन कैंसर)
  • ऑस्टेरिओपोरोसिसव्यायाम से अस्थि का आकार बनाए रखने में मदद मिलती है और
  • मानसिक स्वास्थ्य : व्यायाम से मनोदशा, जीवन की गुणवत्ता को बेहतर बनाने में सहायता मिलती है और कुछ शोध दर्शाते हैं कि इससे अवसाद से ग्रस्त लोगों को भी सहायता मिलती है

लेकिन यदि आपको पहले से ही कुछ स्वास्थ्य जोखिम जैसे ओबेसिटी, डायबिटीज़, मेटाबोलिक सिंड्रोम या हृदयरोग हों, तो नियमित व्यायाम से आपके जोखिमों को बेहतर तरीके से नियंत्रित करने में आपको मदद मिलेगी और इससे अक्सर आपको जीवित रहने का लाभ मिलता है!

व्यायाम और रक्तचाप तथा उच्च रक्तकोलेस्ट्रॉल

नियमित एरोबिक व्यायाम से हासिल होने वाली शारीरिक कंडिशनिंग से हृदय की स्पंदन दर कम होती है और रक्त चाप सामान्य हो जाता है और व्यायाम के किसी दिए गए स्तर पर रहता है

एरोबिक व्यायाम के प्रशिक्षण प्रोग्राम से रक्तचाप में काफी कमी आती है विशेष रूप से उन व्यक्तियों को, जिन्हें उच्च रक्तचाप हो. इससे लिपिड प्रोफ़ाइल में भी सुधार होता है: संपूर्ण रक्त कोलेस्ट्रॉल, सीरम ट्राईग्लिसेराइड्स और बुरा (LDL) कोलेस्ट्रॉल कम होता है तथा अच्छा (HDL) कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है. इस बात के भी प्रमाण हैं कि व्यायाम से इंसुलिन प्रतिरोध, रक्त शर्करा स्तरों और रक्त का थक्का जमने पर भी सकारात्मक प्रभाव होते हैं.

उच्च BP और उच्च रक्त कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित लोगों में व्यायाम से C-प्रतिक्रियात्मक प्रोटीन भी कम होता है, जो शरीर में ज्वलन और CHD के जोखिम का एक चिह्न है.

यहां तक कि एंजाइना या पहले हृदयाघात हो चुके व्यक्तियों में भी व्यायाम उन कुछ रुकावटों में से एक है, जिनसे जीवित रहने की दर, फ़ंक्शन और जीवन की गुणवत्ता बेहतर होती है, हालांकि इसे चिकित्सीय देखरेख में और सावधानी के साथ किया जाना चाहिए

व्यायाम और ओबेसिटी, डायबिटीज़ और मेटाबोलिक सिंड्रोम

अधिक मोटे लोगों में, मेटाबोलिक सिंड्रोम और डायबिटीज़ (या प्रीडायबिटीज़) सहित हृदयसंबंधी समस्याओं का एक प्रमुख कारण इंसुलिन प्रतिरोध है, यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें शरीर की कोशिकाएं, इंसुलिन का उपयोग शरीर की शर्करा और वसा को संतुलित रखने के लिए नहीं कर सकती हैं. व्यायाम से इंसुलिन की संवेदनशीलता बढ़ती है और उपचार से रक्त शर्करा और HbA1c स्तर, BP, कोलेस्ट्रॉल इत्यादि कम होते हैं और इससे दवाओं की आवश्यकता / खुराक कम हो सकती है

व्यायाम और वज़न/ शरीर पर जमी वसा और मांसपेशियों की चर्बी में कमी

एरोबिक व्यायाम के उपरोक्त सभी लाभ निरोधक व्यायाम में भी मिलते हैं, इसके अतिरिक्त निरोधक व्यायाम से इनमें भी सहायता मिल सकती है:

  1. मांसपेशियों को आकार देना और बनाए रखना
  2. शरीर की चर्बी को समाप्त करना, विशेष रूप से पेट पर जमी चर्बी को
  3. अस्थियों के आकार को बनाए रखना

व्यायाम और कैंसर

कोलोन कैंसर का खतरा और व्यायाम

बहुत से अध्ययनों में यह लगातार पाया गया है कि ऐसे वयस्क व्यक्ति जो अपनी शारीरिक गतिविधि बढ़ा लेते हैं, उनमें उनके BMI या शारीरिक भार पर ध्यान दिए बिना कोलोन कैंसर विकसित होने का जोखिम (बड़ी आंत का कैंसर), सुस्त जीवनशैली वाले लोगों की तुलना में 30 से 40  प्रतिशत कम हो जाता है.

ऐसा अनुमान है कि प्रतिदिन 30 से 60 मिनट की मध्यम से ज़ोरदार शारीरिक गतिविधि, कोलोन कैंसर के विरुद्ध सुरक्षा के लिए आवश्यक है

ब्रेस्ट कैंसर का खतरा और व्यायाम

अधिकांश अध्ययन यह इंगित करते हैं कि शारीरिक रूप से सक्रिय महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर विकसित होने का जोखिम, निष्क्रिय महिलाओं की तुलना में कम होता है. हालांकि, शारीरिक गतिविधि के माध्यम से जोखिम कम होने की मात्रा में विस्तृत अंतर (20 से 80 प्रतिशत के बीच) होता है. इसके लाभ, मध्यम से अत्यधिक सक्रिय किशोर आयु की लड़कियों में और सामान्य शारीरिक वज़न वाली महिलाओं में अधिकतम दिखाई दिए हैं!

एंडोमेट्रियल कैंसर का खतरा और व्यायाम

लगभग 20 अध्ययनों में एंडोमेट्रियल कैंसर के जोखिम पर शारीरिक गतिविधि के खतरे की जाँच की गई है. परिणाम दर्शाते हैं कि व्यायाम से एंडोमेट्रियल कैंसर का जोखिम 20 प्रतिशत से 40 प्रतिशत कम हो जाता है

व्यायाम और अवसाद / मानसिक स्वास्थ्य

जॉगिंग, तैराकी, साइक्लिंग, चहलकदमी, गार्डनिंग और नृत्य करने सहित एरोबिक व्यायाम, चिंता और अवसाद में कमी लाने वाले सिद्ध हुए हैंव्यायाम चिंता, अवसाद और नकारात्मक मनोदशा में कमी लाकर और स्वाभिमान और बोध संबंधी प्रकार्य को बेहतर बनाकर मानसिक सेहत में सुधार लाता है.

यह प्रभाव संभवतः प्रेरणा और मनोदशा को नियंत्रित करने वाली लिम्बिक प्रणाली; जिसमें तनाव की प्रतिक्रिया के रूप में भय उत्पन्न होने की स्थिति, एमिग्डेला; और स्मृति तथा मनोदशा और प्रेरणा को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले हिप्पोकैम्पस सहित मस्तिष्क के विभिन्न क्षेत्रों के साथ HPA (हाइपोथैलेमिकपिट्युटरीएड्रिनल) अक्ष के संचार के माध्यम से उत्पन्न होता है.

व्यायाम और मनोदशा

नियमित व्यायाम के स्वास्थ्यसंबंधी लाभों में दैनिक जीवन के आनंद पर होने वाले निम्न प्रभाव शामिल हैं:

  • बेहतर नींद
  • यौनक्रिया में अधिक रुचि
  • तनाव में कमी
  • मनोदशा में सुधार
  • अधिक ऊर्जा और क्षमता

इसलिए आपके जीवन की शुरुआती अवस्था में व्यायाम आरंभ करना अच्छा होता है जिससे आप बीमारियों को दूर रख सकें और जीवन का सर्वोत्तम तरीके से आनंद लेने के लिए फ़िट रहें!

यहां वयस्कों के लिए दैनिक व्यायाम के सामान्य सुझावपाएं और उनका पालन करें

साथ ही यह भी देखें:

व्यायाम शुरू करने के पहले आपको स्वास्थ्यसंबंधी कौनसी जांचों की आवश्यकता होती है?

शुरुआत करने वाले व्यक्तियों के लिए एरोबिक व्यायाम

निरोधक व्यायाम: घर पर व्यायाम कैसे करें?

इसे देखें: व्यायाम के सुझावों के लिए हमारे संदर्भ