हार्ट अटैक के लिए अपने जोखिम का अभी पता लगाएँ!

आपको हृदयरोग होने के जोखिम का आंकलन करवाने का लाभ

लोगों में हृदयरोग के प्रबंधन के दो आधारभूत कारण ये हैं

  1. इसका जल्दी पता लगाना और दवाओं तथा सर्जिकल हस्तक्षेप इत्यादि के द्वारा इसका प्रबंधन करना
  2. लोगों में जोखिम कारकों का पता लगाना और किसी लक्षणों/बीमारी के प्रकट होने के पहले उन पर हमला करना

CVD प्रबंधन और रोकथाम के विशेषज्ञ लगातार इस निष्कर्ष पर पहुँच रहे हैं कि इन बीमारियों को सीमित करने का सबसे प्रभावी उपाय उनके जोखिम कारकों का प्रबंधन करना है, ECG इत्यादि के द्वारा स्वयं बीमारियों का पता लगाना नहीं; दूसरा मार्ग बेहतर है

यहां तक कि AHA ने यह अनुशंसा की है कि ऐसे लोगों को जिनमें CVD का संकेत करने वाले लक्षण मौजूद हो ,उन्हें ECG या तनाव परीक्षण का सुझाव नहीं दिया जाना चाहिए, जो कि IHD के निदान का कारण है, क्योंकि इससे परिणामों में सुधार नहीं होता और इससे संक्रमण हो सकता है जिससे अनावश्यक हस्तक्षेप की जटिलताएँ उत्पन्न हो सकती हैं

इसके बजाय जनसंख्या विशिष्ट पूर्वानुमान पर आधारित, के अनुसार जोखिम कारकों का ऐसा प्रबंधन जिससे अगले 10 वर्षों में हार्ट अटैक या CVD ईवेंट के जोखिम का निर्धारण किया जा सके प्रमुखता से अपनाया जा रहा है.

आपने फ्रेमिंघम हृदय जोखिम स्कोर के बारे में सुना होगा, जो इस श्रेणी में सबसे ज़्यादा लोकप्रिय स्कोर है, लेकिन यह अमेरिकी लोगों के लिए ही विशिष्ट है.  भारतीय लोगों के लिए ऐसा एकमात्र स्कोर WHO/ISH जोखिम स्कोर है जिसे सबसे उपयुक्त स्कोर के रूप में भारतीय डॉक्टरों द्वारा स्वीकार कर लिया गया है. हम FHI में इस स्कोर का उपयोग 10 वर्षों में आपके हार्ट अटैक के जोखिम को ज्ञात करने के लिए करते हैं

परिकलित जोखिम स्कोर से आपके डॉक्टर को यह निर्णय करने में सहायता मिलेगी कि उन्हें आपके कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए आपको द्वाएँ देनी चाहिए या नहीं, आपको कितनी बार स्वास्थ्य जाँच करवाना चाहिए इत्यादि

FHI हार्ट अटैक जोखिम कैल्क्युलेटर क्या बताता है?

जोखिम आंकलन स्कोर, उस कोहोर्ट/समूह में हार्ट अटैक या स्ट्रोक के जोखिम की संभाव्यता का निर्धारण करता है, जिसमें आप शामिल हो सकते हैं, आपके व्यक्तिगत जोखिम का नहीं; उदा यदि आपके जोखिम आंकलन का स्कोर दस वर्षों में हार्टअटैक होने का जोखिम 10-20% है, तो  इसका अर्थ यह है कि आपके समान लोगों के समूह में अगले दस वर्षों में 10-20% लोगों को हार्टअटैक होगा. इसलिए भय से बचना और अपने जोखिम कारकों में बदलाव लाने की दिशा में सकारात्मक कदम उठाना आवश्यक है

FHI कैल्क्युलेटर यह भी दर्शाता है कि एक व्यक्तिगत जोखिम जैसे धूम्रपान छोड़ना या आपके कोलेस्ट्रॉल को कम करने का प्रभाव आपके हार्टअटैक के संपूर्ण जोखिम पर होगा, जिससे आपको प्रेरित होने में सहायता मिलेगी

हार्ट अटैक के जोखिम मूल्यांकन के लिए कौन से परीक्षण परिणामों की आवश्यकता होती है

आपको निम्न परीक्षण परिणाम प्राप्त करने होंगे (नवीनतम परिणाम प्राप्त करना सर्वोत्तम है लेकिन एक वर्ष पूर्व तक के परीक्षण परिणाम प्राप्त करना ठीक है, यदि आपकी जीवनशैली और स्वास्थ्य में बहुत अधिक बदलाव नहीं हुए हों)

  • BMI
  • कमर की परिधि
  • खाली पेट ब्लड शुगर का परीक्षण (FBS)
  • ब्लद लिपिड: संपूर्ण, LDL और HDL कोलेस्ट्रॉल और ट्रायग्लिसेराइड्स (TG)
  • ब्लड प्रेशर

इन रिपोर्ट्स को तैयार रखें?

अपने जोखिम स्कोर का परिकलन करें!

देखें: ह्रदय के जोखिम प्रबंधन में अनुशंसा के लिए हमारे संदर्भ